56 हार्वेस्टर चालको को कोरोनटाईन से  मिली छुट्टी, 19  लोगो का जांच प्रतिवेदन मिलने का इंतजार

Spread the love

बिक्रमगंज।  दूसरे प्रदेशों से  लाए गए  हारवेस्टर चालको को  बिक्रमगंज रेफरल अस्पताल के कोरोनटाईन केंद्र में रख 56 लोगो का कोरोना वायरस का जांच में  नकारात्मक लक्षण पाए जाने पर उन्हें बुधवार शाम को  छुट्टी दे दी गई ।मिली जानकारी अनुसार  अनुमण्डल क्षेत्रो के विभिन्न गांवों के किसान  प्रशासन से अनुमति ले  उक्त हार्वेस्टर चालको को लाए थे। अब  जब गेंहू की फसल तैयार हो गई तो उसे काटने के लिए लाए गए हारवेस्टर चालको को   कोरोना वायरस से बचाव के लिए उन्हें  अनुमण्डल  रेफरल अस्पताल बिक्रमगंज में ठहराया गया  था।    उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए हार्वेस्टर चलाने वाले लोगों को अनुमंडलीय अस्पताल बिक्रमगंज  मे प्रशासन के द्वारा कोरोनटाइन केंद्र में ठहराव किया गया था । जिसकी वजह से हार्वेस्टर मालिक सकते में पड़े हुए थे । किसानों के खेत में गेहूं का फसल पक कर तैयार है। जिसका कटनी नितांत आवश्यक है।  हार्वेस्टर मालिकों के द्वारा अपने -अपने  चालको  को सरकार से मिले निर्देश के अनुसार बुलवाया गया था  । उससे हार्वेस्टर संचालक एवं किसानों के होश उड़े हुए थे ,कि कहीं प्रशासन के द्वारा हार्वेस्टर संचालित करने वाले कर्मियों को छोड़ा नहीं गया तो फसल खेत में ही बर्बाद हो जाएंगे ?  बताते चलें कि धान कटनी के समय में ही किसानों के ऊपर पड़ी प्राकृतिक आपदा ने पहले किसानों के कमर तोड़ कर के रख दिए हैं। लाचार होकर किसान विलंब से ही गेहूं का खेती किए जो आज तैयार  हैं ।उसको भी काटने का जुगाड़ नहीं हो पा रहा था।हार्वेस्टर स्वामी  प्रभाकर सिंह, सोनू पांडे सुमन सिंह , ने बताया कि लॉक डाउन से पूर्व ही कुछ लोगों के द्वारा अपने-अपने हार्वेस्टर को चलाने वाले कर्मियों को बुलाया गया था ।कुछ लोगों के द्वारा सरकार के आदेश के बाद इन लोगों को बुलाया गया एवं  कटनी का काम शुरू किया जाना था ।प्रशासन के द्वारा क्वॉरेंटाइन करने के नाम पर अनुमंडलीय अस्पताल में बंद करके रखा गया था  जिन्हें स्वास्थ्य परीक्षण में  कोरोना नलरात्मक लक्ष्ण  पाए जाने पर उन्हें बुधवार शाम को छुट्टी मिल गई। अब गेंहू फसल हार्वेस्टिंग कटनी होने से किसानों के चेहरा खिल उठा । इसके लिए प्रशासन एवं चिकित्सक का आभार ब्यक्त किया।  शुभ संकेत का स्वागत।अनुमंडलीय अस्पताल के प्रभारी डॉ अजय कुमार ने बताया कि जो भी हार्वेस्टर चलाने वाले कर्मी हॉस्पिटल में आए उनका स्क्रीनिंग कर लिया गया है ।  56 हार्वेस्टर चालकों में कोरोना के  लक्षण नही पाए जाने के कारण उन्हें छुट्टी दे दी गई।  बाकी 19 लोगो का  स्वास्थ्य जांच आने की प्रतीक्षा है।


Spread the love

Media Darshan

Read Previous

मसौढ़ी में 600 लोगों को कराया भोजन 3 मई तक जरुरतमंदों की मदद का संकल्प

Read Next

शहरी गरीब पशु पालकों की स्थिति हुई खराब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *