भूख, सांप्रदायिकता और हिंसा के खिलाफ ऐपवा का एकदिनी  अनशन संपन्न- बंदना सिंह

Spread the love

समस्तीपुर। कोरोना महामारी में भूख, सांप्रदायिकता और महिलाओं पर जारी हिंसा के खिलाफ महिला संगठन ऐपवा के बैनर तले राष्ट्रीय अह्वान के तहत मंगलवार को शहर के विवेक-विहार मुहल्ला में ऐपवा जिलाध्यक्ष बंदना सिंह के नेतृत्व में एक दिन अनशन किया गया. बंदना सिंह के अलावे ऐपवा राज्य कार्यकारिणी सदस्य नीलम देवी, आइसा के स्तुति सिंह भी अनशन आंदोलन में शरीक रहीं. मौके पर चर्चित महिला अधिकार नेत्री श्रीमती सिंह ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान भूख एक बड़ी समस्या बनकर उभरी है. बगैर पूर्व तैयारी किये सरकार लाकडाउन लागू कर दी. उन्होंने कहा कि जानबूझकर इस महामारी के दौर में भी सांप्रदायिक माहौल बनाया जा रहा है. कोरोना के बहाने समुदाय विशेष को टारगेट किया जा रहा है जो अनुचित है. हर समुदाय में अच्छे और खराब लोग होते हैं. महिला नेत्री ने कहा कि इस दौर में भी महिलाओं पर घर के अंदर एवं बाहर हिंसा जारी है. इसका प्रतिकार महिलाओं को स्वंय आगे आकर करना होगा. उन्होंने कहा कि बैंक, आफिस,खेत- खलिहान से लेकर डीलर तक महिलाओं को प्रताड़ित किया जाता है. उन्हें दोयम दर्जे का नागरिक समझा जाता है. कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन शोषण की खबरें आती रही हैं. सरकार खूद लिंग परीक्षण कानून को कमजोर कर रही है. इससे बेटियों की भ्रूणहत्या में और इजाफा होगा. इस पर रोक लगनी चाहिए.श्रीमती सिंह ने कहा कि लाकडाउन संकट में वृद्ध, बेसहारा, विकलांग, बीमार महिलाओं को बगैर कार्ड का भी राशन, राशि सरकार को देनी चाहिए।  ऐपवा राज्य कार्यकारिणी सदस्य सह माले नेत्री नीलम देवी ने कहा कि रविवार को शहर में पुलिस सम्मान समारोह के बहाने सैकड़ों लोगों को बिना मास्क जुटाकर आजाद चौक से आभरब्रीज तक जुलूस निकालने वाले दीनबंधु संस्था समेत तमाम दोषियों पर सरकार कानूनी कारबाई कर लाकडाउन को सफल पूरी तरह सफल बनाने के लिए आमजनों के बीच समान रूप से प्रचार- प्रसार करें।

Spread the love

Media Darshan

Read Previous

ग्रामीणों ने गौ मांस के साथ एक तस्कर को पकड़ा

Read Next

सड़क हादसे में जख्मी की हालत नाजुक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *