राज्य में कोविड-19 के 2,117 संदिग्धों के सैंपल में 19 का टेस्ट पॉजिटिव

Spread the love

 रांची।  राज्य के बाहर फसे झारखंडवासियों की मदद हेतु श्रम, नियोजन एवं प्रशिक्षण विभाग, झारखंड सरकार द्वरा नेपाल हॉउस रांची में एक राज्य स्तरीय कोविड-19 रिस्पांस टीम का नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। इस नियंत्रण कक्ष में झारखंड के बाहर फसे कोई भी झारखंडवाशी विभाग द्वारा जारी टॉल फ्री नम्बर 0651-2490037/52/55/58/83/92 व 0651-2490104/125/127/128 पर सम्पर्क कर सकते हैं।  नियंत्रण कक्ष द्वारा संबंधित व्यक्ति के लोकेशन पर संबंधित राज्य सरकार से संपर्क स्थापित करते हुए सहायता पहुँचने का कार्य किया जा रहा है ।  अभी तक इन टॉल फ्री नम्बरस पर 25,245 कॉल आये जिसमें लॉक डाउन की वजह से देश के विभिन्न राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में झारखंड के  8,37,410 लोगों के फसे होने की सूचना प्राप्त हुई है। जिनमें से 10,145 जगाहों पर 5,20,857 प्रवासी मजदूरों के फसे होने की भी जानकारी प्राप्त हुई है।  अब तक सरकार द्वरा 7,049 जगहों पर फंसे 4,10,388 मजदूरों के खाने एवं रहने की व्यवस्था कर दी गयी है। सभी लोगों के संबंध में पूरी जानकारी जुटाई जा रही है, ताकि उन तक हर स्तर से मदद पहुंचाई जा सके।
राज्य सरकार द्वारा लोगों की सहायता के लिए खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले विभाग, द्वारा  लोगों तक विभिन्न योजनाओं के तहत  राशन एवं खाना पहुँचने का कार्य किया जा रहा है। विभाग द्वारा  प्राप्त आंकड़ो के अनुसार अब तक 1,46,854 लोगों तक अनाज पहुंचा दिया गया है। वहीं नन पीडीएस के तहत 1,74,955 लोगों तक अनाज उपलब्ध करा दिया गया है। दाल भात के विभिन्न योजनाओं में अब तक 38,00,242लोगों को खाना खिलाया जा चुका है।  एन जीओ एवं वोलेंटियर  टीम द्वारा 19,03,817लोगों को खाना खिलाया जा चुका है। प्रवासी मजदूरों के लिए 679 राहत कैम्प में 1,31,992 मजदूरों को खाना खिलाया जा रहा है। साथ ही आकस्मिक राहत पैकेट का वितरण भी जरूरतमंदों के बीच किया जा रहा है। अबतक 39,289 लोगों तक विशेष राहत सामग्री के पैकेट पहुचाये गए हैं। इसके अतिरिक्त विभाग द्वारा बाजार में आटे की किल्लत को देखते हुए FCI द्वारा आटा मिल को गेहूं भी उपलब्ध कराया जा रहा है। 
 राज्य सरकार बार-बार  राज्य के सभी नागरिकों से घर पर रहने के लिए आग्रह कर रही है। क्योंकि कोरोना वायरस से बचाव सोशल डिस्टेन्सिंग से ही सम्भव है।  घर पर रह कर ही इस बीमारी के संक्रमण से बचा जा सकता है। स्वास्थ्य विभाग के रिपोर्ट के अनुसार अभी तक  राज्य में 2,117 लोगों का कोविड-19 टेस्ट लिया गया जिसमें से 19 पॉजिटिव पाए गये एवं 1,666 लोगों का टेस्ट नेगेटिव आया वहीं 432 लोगों का टेस्ट अभी प्रतीक्षा में है। पॉजिटिव पाए गए लोगों मे 8 बोकारो के हैं, 2 हज़ारीबाग़ के, 1 कोडरमा के एवं 8 राँची के हैं। कोरोना से बचाव के लिए राज्य में 3,768 क्वॉरेंटाइन सेंटर कार्य कर रहे हैं, जिसमें 14,907 लोगों को क्वॉरेंटाइन किया जा रहा है। वहीं 1,07,594 लोग होम क्वॉरेंटाइन में रह रहे हैं । अभी तक 73,046 लोगों ने अपना क्वॉरेंटाइन पूरा कर लिया है।
वहीं दूसरी ओर राज्य स्तरीय कोरोना नियंत्रण केंद्र में कोविड -19 से संबंधित किसी भी तरह की सहायता हेतु टॉल फ्री नम्बर 181 पर सम्पर्क किया जा सकता है। सहायता हेतु नियंत्रण केंद्र द्वारा त्वरित कार्रवाई की जा रही है। अभी तक यहां खाद्य सामग्री, चिकित्सा, विधि व्यवस्था एवं झारखंड में फंसे मजदूरों से संबंधित कुल 12,422 मामले आये जिनमें से 8,950 मामलों पर सहायता उपलब्ध कराई जा चुकी है । शेष बचे मामलों पर हर संभव कार्रवाई की जा रही है। नियंत्रण केंद्र में सबसे अधिक खाद्य आपूर्ति से संबंधित मामले सामने आ रहे। अभी तक 5,260 मामलों पर कार्रवाई की जा चुकी है। वहीं विधि व्यवस्था से संबंधित 613, चिकित्सा से संबंधित 643, झारखंड में फंसे व्यक्ति से संबंधित 607 एवं अन्य 299 शिकायतों का समाधान किया जा चुका है। कोरोना नियंत्रण केंद्र में देवघर जिले के उदयपुरा से इबलुन हसन द्वारा संपर्क किया गया ।उनके टोले में 34 लोग मजदूरी कर के अपना जीवनयापन करते है। लॉक डाउन की वजह से उनके समक्ष खाने की समस्या उत्पन्न हो गयी। इस समस्या के निराकरण हेतु कोरोना नियंत्रण केंद्र द्वारा देवघर जिले के पदाधिकारियों से संपर्क किया गया एवं उनतक राशन उपलब्ध कराया गया।  रांची जिला के मिश्री मोहल्ला, निवासी हाशिम एक दैनिक मजदूर हैं । वर्तमान स्थिति के कारण उनके परिवार में खाने की समस्या उत्पन्न हो गयी एवं उनके पास राशनकार्ड भी नही  था जिससे सरकार द्वारा प्राप्त खाद्यान भी उन्हें नही प्राप्त हो पा रहा था। सहायता हेतु उन्होंने कोरोना नियंत्रण केंद्र में संपर्क किया जिसपर नियंत्रण केंद्र द्वारा प्रखंड विकास पदाधिकारी से संपर्क किया गया एवं हाशिम के परिवार को  राशन उपलब्ध कराया गया।  वहीं गिरिडीह जिले की मरियम खातून को भी  कोरोना नियंत्रण केंद्र में संपर्क करने के पश्चात जिला आपूर्ति पदाधिकारी से संपर्क कर राशन उपलब्ध कराया गया।

Spread the love

MediaDarshan

Read Previous

स्टूडेंट्स की समस्याओं को सुनने व उनका निराकरण करने के लिए जारी हुआ हेल्पलाइन नंबर

Read Next

कोरोना वायरस के कहर से टूटा कुम्हारों के कमर : अविनाश देव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *